सांप ने काटा तो उससे भी काट लिया

उड़ीसा में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। एक आदिवासी ने सांप को बदले में काटा और सांप की मौत हो गई। लोहा लोहे को काटता है जहर जहर को मारता है ये मुहावरा आपने खूब सुने होंगे इन मुहावरों की असल जिंदगी में आजमाइश भी आपने कहीं न कहीं देखी या सुनी होगी लेकिन अब जो आपको बताने जा रहे हैं वो अपनी किस्म का एक ऐसा मामला है जो अजीबोगरीब तरीके से इन मुहावरों को नुमाया करता है।

ये दिखाता है कि इंसान बदले के लिए किस हद तक जा सकता है। पत्रकारिता के छात्र इसे ध्यान से सुनें क्योंकि पढ़ाई के वक्त न्यूज़ वैल्यूज अर्थात समाचार मूल्य पढ़ाए जाते हैं जिनमें एक मूल्य आता है। नॉवेल्टी नॉवेल्टी में वे खबरें आती हैं जो असाधारण। मसलन आदमी का कुत्ते को काटकर। ये मामला भी कुछ वैसा ही है बस यहां कुत्ते की जगह सांप को रखती है खबर। उड़ीसा के एक गांव की है जहां के एक आदिवासी व्यक्ति का पैर एक जहरीले सांप पर पड़ गया। सांप ने स्वाभाविक तौर पर उसे काट लिया और फिर उस व्यक्ति ने प्रतिशोध में उस सांप को काटा और काटता रहा जब तक वो साथ मर नहीं गया। ये असामान्य सी लगने वाली घटना ओडिसा के जाजपुर जिले के दंगल ब्लॉक में आने वाली ग्राम पंचायत शाली जंगल के गांव गंगई पटिया की है। यहां के 45 वर्षीय निवासी किशोर बदरा ने को सारा घटनाक्रम बताते हुए कहा कि बुधवार रात को अपने धान के खेत से काम पूरा करके वापस आ रहे थे तभी गलती से उनका पैर जहरीले करैत सांप के ऊपर चढ़ गया। सांप ने स्वभाव था अपनी आत्मरक्षा में किशोर के पैर में काट लिया तो किशोर को तेज दर्द हुआ तो उसने फौरन अपनी टॉर्च जलाकर नीचे देखा तो सांप जा रहा था। गुस्से और झुंझलाहट में किशोर ने फौरन सांप को हाथों से पकड़ा और उसे कई बार मुंह से काटा। किशोर बताते हैं मैंने सांप को चबा डाला और उसका सारा खून पी गया और मैं बिल्कुल ठीक हूं।

सांप को मारने के बाद किशोर उस सांप का शव लेकर गांव गए। चूंकि करैत सांप जहरीला होता है सो गांव वालों ने किशोर को सलाह दी कि वो फौरन डॉक्टर को दिखाएं। लेकिन किशोर बदरा डॉक्टर के पास जाने की बजाय गांव के ही किसी नीम हकीम के पास गया। इस खबर के बताए जाने तक किशोर ने किसी भी तरह की दिक्कत की शिकायत नहीं की है। किसी भी प्रदेश की बात हो इस मौसम में सांप किलो का डर ग्रामीण इलाकों में रहता ही है। गांव के लोग थोड़ा बहुत अभ्यस्त भी होते हैं लेकिन अगर किसी जहरीले सांप से आपका पाला पड़ ही जाए तो किशोर बदरा की तरह प्रतिक्रिया देना ठीक नहीं है। करैत दुनिया के सबसे जहरीले सांपों में से एक है। कहा जाता है कि करैत का काटा पानी नहीं मानता।

संभव है जब इस किशोर को काटा उस वक्त उसकी जहर की थैली में न हो यह भी संभव है कि किशोर का शरीर किसी विशेष जैविक क्षमता या क्रिया के चलते जहर का प्रभाव पर इस घटना से बिल्कुल नहीं कहा जा सकता है कि सांप काटने पर बदले में उसे काट लेने से जहर मर जाता है या अपना असर नहीं दिखाता है। ऐसे में सरीसृपों से सचेत रहें और कोशिश करें कि आपको और इन सरीसृपों को एक दूसरे से कोई खतरा न हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *