पश्चिम बंगाल में बारिश और बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित छह जिलों में बाढ़ आ गई है।

पश्चिम बंगाल में बारिश और बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित छह जिलों में बाढ़ आ गई है। लाखों लोग प्रभावित हुए हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा कर रही हैं। 10 अगस्त को पहुंची घटाल यह पश्चिमी मिदनापुर जिले में पड़ता है और यहां काफी बारिश हुई है। ममता बनर्जी की एक तस्वीर सामने आई जिसमें उन्होंने पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बारिश के पानी में उतर कर स्थिति का जायजा ले रही हैं। तस्वीर देखें। इसके बाद ट्विटर पर एक दूसरी फोटो सामने आई।

ये तस्वीर विघ्न डाल की है उसी समय की इसमें दिख रहा है कैसे पास की सूखी जमीन छोड़कर पानी में जाकर खड़ी है और थोड़ी दूरी पर तमाम मीडियाकर्मी जुटे हैं जो उनकी फोटो खींच रहे हैं। दोनों तस्वीरें सामने आने के बाद ममता बनर्जी ट्रोल होने लगीं। बीजेपी संवाद नाम के ट्विटर हैंडल ने ममता को इस तरह ट्रोल किया। ये दोनों तस्वीरें और भी यूजर्स ने ट्वीट की। ऋषि बागरी नाम के ट्विटर यूजर ने कहा पहली तस्वीर ममता कैसा दिखना चाहती हैं। दूसरी तस्वीर जनता कैसे देखती है। वहीं दूसरी तरफ ममता बनर्जी की तस्वीर को ट्वीट करते हुए यह भी कहा गया वाह क्या सीन है ट्रोलर्स का काम ट्रोल करना है लेकिन हमारा काम सही तथ्यों को सामने रखना। समझाने की कोशिश की कि क्या वाकई में ममता बनर्जी से फोटो खिंचाने भर के लिए सूखी जमीन छोड़कर पानी में उतर गए। हमने बात की टुडे रिपोर्टर शाहजहां से ममता के दौरे की कवरेज करने के लिए खटाल में मौजूद थे। उन्होंने हमें बताया कि तस्वीरें उस वक्त मैं वहीं था। दरअसल ढलान वाली रोड ऊंची जगहों से पानी भरकर ढाल पर जमा हो गया था।

इस वजह से काफी पानी भरा था। वहीं उसके अगल बगल पानी हट गया था। ममता बनर्जी राहत सामग्री वितरित करने पहुंची थी। सूखी जगह पर ही। उन्होंने राहत सामग्री देखी। कुछ लोगों को वितरित की। रोड के किनारे घरों की छत पर कई लोग खड़े थे। उन्हें देखकर ममता बनर्जी पानी वाली जगह पर चली गईं। उनके पीछे पीछे कुछ पुलिस प्रशासन के अधिकारी भी पानी में उतर गए। ममता ने छतों पर खड़े लोग कुछ देर बाद ही वापस आ गए। कहना है कि छत पर खड़े लोगों से से बात नहीं हो पा रही थी। ममता पानी के बीच गई और इसी बीच ये तस्वीरें खींची गई। हालांकि अभी इसपर ममता बनर्जी टीएमसी की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। आपको बताते चलें कि पश्चिम बंगाल के छह जिले बाढ़ की चपेट में आ चुके हैं।

तीन लाख से अधिक लोग प्रभावित बताए जा रहे हैं जबकि 15 से अधिक लोगों की मृत्यु की बात भी सामने आ रही है। ममता बनर्जी ने आरोप लगाया है कि दामोदर घाटी निगम द्वारा ज्यादा पानी छोड़े जाने के कारण घाटी में बाढ़ के हालात बने हैं। उनका कहना है कि इससे निपटने के लिए राज्य सरकार ने घंटाल मास्टर प्लान तैयार किया है लेकिन इसे केंद्र सरकार मंजूरी नहीं दे रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *